मुद्रास्फीति: परिभाषा, स्पष्टीकरण और उदाहरण

मुद्रास्फीति: परिभाषा, स्पष्टीकरण और उदाहरण

2022-11-22 • अपडेट किया गया

आजकल, हर न्यूज रिसोर्स बता रहा है मुद्रास्फीति के बारे मे, इकोनॉमिक आर्टिकल्स इस बारे में बहुत कुछ बता रहे हैं। जितनी भी सूचनाएं प्रकाशित की जा रही हैं उससे ज्यादा से ज्यादा लोग भ्रमित हो रहे हैं। फोरेक्स मार्केट में, ट्रेडर्स नियमित रूप से इस इकोनॉमिक इन्डिकेटर को मॉनिटर करते हैं।

यह लेख आपको मुद्रास्फीति और इससे जुड़ी हर चीज के बारे में बेसिक इनफॉर्मेशन प्राप्त करने में मदद करेगा।

मुद्रास्फीति क्या है?

मुद्रास्फीति की दर विनिमय दर के विकास के सबसे महत्वपूर्ण निर्धारकों में से एक है, अन्य तत्वों को ध्यान में रखने के बावजूद।

साधारण तरीके से समझा जाए तो, मुद्रास्फीति वस्तुओं और सेवाओं की कीमतों में सामान्य प्रगतिशील वृद्धि है। जब कीमतें बढ़ती हैं, तो एक निश्चित राशि के लिए एक व्यक्ति द्वारा खरीदे जा सकने वाले सामानों की संख्या घट जाती है। उदाहरण के लिए, कल आपके पास $5 थे, और इससे आप पाँच चॉकलेट बार खरीद सकते थे, लेकिन आज, $5 से, आप केवल तीन चॉकलेट बार ख़रीद सकते हैं, इसलिए, इस स्थिती में, मुद्रास्फीति अधिक है।

मुद्रास्फीति के प्रकार

हर प्रकार की मुद्रास्फीति बर्बाद करने वाली नहीं होती है। वह सबसे कमजोर से सबसे मजबूत तक अलग अलग हो सकती है।

क्रीपिंग मुद्रास्फीति

क्रीपिंग या माइल्ड मुद्रास्फीति का मतलब है कि कीमतों में प्रति वर्ष 3% या उससे कम की वृद्धि होना। फेडरल रिजर्व का मानना ​​है कि जब कीमतों में 2% या उससे कम की वृद्धि होती है, तो इससे आर्थिक विकास में लाभ होता है। यह जैविक आर्थिक विस्तार का तरीका है। इसलिए फेड लक्ष्य मुद्रास्फीति की दर 2% निर्धारित करता है।

वॉकिंग मुद्रास्फीति

यह गहन या विनाशकारी प्रकार की मुद्रास्फीति है, आमतौर पर यह 3% से 10% तक होती है। लोग आने वाली अधिक कीमतों से बचने के लिए ज़रूरत से ज़्यादा ख़रीदना शुरू कर देते हैं। इससे मांग और भी बढ़ जाती है इसलिए सप्लायर और वेजेस दोनों ही इसकी पूर्ति नहीं कर पाते। इसी वजह से , साधारण सामान और सेवाएं लोगों के लिए बहुत ज्यादा महंगी हो जाती हैं।

गैलोपींग मुद्रास्फीति

जब मुद्रास्फीति 10% या अधिक हो जाती है, तब इससे देश की अर्थव्यवस्था को बहुत नुकसान होता है। साथ ही, विदेशी निवेशक उस देश में निवेश करने से बचते हैं, जिससे वह देश आवश्यक पूंजी से वंचित रह जाता है। अर्थव्यवस्था अस्थिर हो जाती है, और सरकारी नेताओं’ की विश्वसनीयता खत्म हो जाती है। गैलोपींग मुद्रास्फीति को हर कीमत पर रोका जाना चाहिए अन्यथा यह कारण बन सकती है आर्थिक मंदी का।

गैलोपींग मुद्रास्फ़ीति हाइपरइन्फ्लेशन की तुलना में लगातार होने वाली आर्थिक घटना है और समय-समय पर साक्ष्य बनते हैं सबसे अधिक आर्थिक रूप से विकसित देशों में भी। उदाहरण के लिए, युद्ध के बाद का समय (1945-1952) और 1970 के दशक में OPEC द्वारा निर्धारित तेल की कीमतों में वृद्धि के कारण गैलोपींग मुद्रास्फीति देखी गई थी।

2000 के दशक में, गैलोपींग मुद्रास्फीति का अनुभव करने वाले देशों की संख्या में काफी गिरावट आई। ऐसे अवसर की उच्चतम दर 2004-2005 में 23% की दर से अंगोला में थी।

उच्च मुद्रास्फीति

उच्च मुद्रास्फीति तब होती है जब कीमतें प्रति माह 50% से अधिक बढ़ जाती हैं। यह अत्यंत दुर्लभ है। वास्तव में, उच्च मुद्रास्फीति के अधिकांश उदाहरण दिखते हैं हैं जब सरकारें युद्धों के भुगतान के लिए पैसे बचाती हैं। उच्च मुद्रास्फीति के उदाहरणों में शामिल हैं 1920 के दशक में जर्मनी, 2000 के दशक में जिम्बाब्वे और 2010 में वेनेजुएला शामिल हैं। संयुक्त राज्य अमेरिका में, गृहयुद्ध के दौरान अति मुद्रास्फीति हुई।

विस्फीती और अवस्फीति में अंतर

अवस्फीति वस्तुओं और सेवाओं के सामान्य  कीमतों  में कमी है। यह कीमतों में गिरावट की एक प्रक्रिया है, इसलिए यह मुद्रास्फीति के विपरीत है। अवस्फीति से मुद्रा की क्रय शक्ति में वृद्धि होती है। दूसरे शब्दों में, आपके पास उतनी ही राशि हो सकती है, लेकिन जैसा कि कीमतें कम हैं, इसलिए आपका डॉलर आगे बढ़ेगा। अवस्फीति का सबसे स्पष्ट उदाहरण है अमेरिका में आई महामंदी।

अवस्फीति GDP के लिए बहुत हानिकारक है क्योंकि उस समय लोग सामान खरीदना बंद कर देते हैं और वे कीमतें कम होने का इंतजार करते हैं। इसलिए सेंट्रल बैंक न केवल मुद्रास्फीति, बल्कि अवस्फीति का भी विरोध करते हैं।

यह विस्फीति से भिन्न है, जो समय के साथ किसी देश के सकल घरेलू उत्पाद में मुद्रास्फीति की दर में केवल एक रुकावट है (और उस परिवर्तन की गति को आमतौर पर चिह्नित किया जाता है)। विस्फीति उस समय होती है जब उपभोक्ता मूल्य स्तर में वृद्धि पिछले समय बढ़ने वाली कीमतों से धीमी हो जाती है।

स्टैगफ्लेश

स्टैगफ्लेशन ठहराव और मुद्रास्फीति का एक संयोजन है। वह क्षण है जब अभी भी मूल्य की मुद्रास्फीति होती है, लेकिन आर्थिक विकास स्थिर होता है। ऐसा कैसे संभव हो सकता है? अगर आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए पर्याप्त मांग नहीं है, तो कीमतें क्यों बढ़ेंगी?

यह घटना 1970 के दशक में हुई जब संयुक्त राज्य अमेरिका ने स्वर्ण मानक पर रोक लगा दी। जब डॉलर का मूल्य एक बार सोने के लिए नहीं बढ़ाया गया, तो यह गिर गया। उसी समय, सोने की कीमतों में भी उछाल आया है। उस समय फेडरल रिजर्व के अध्यक्ष पॉल वोल्कर ने फेड फंड की दर को दो अंकों में बढ़ाकर स्टैगफ्लेशन को खत्म कर दिया। उन्होंने इसे काफी देर तक वहीं रखा आगे मुद्रास्फीति की उम्मीदों को दूर करने के लिए।

वेज मुद्रास्फीति

वेज मुद्रास्फीति नाममात्र वेज में वृद्धि है। इसका अर्थ है कि श्रमिकों को उच्च वेतन मिलता है।  बेशक, हर कोई सोचता है कि उनके वेज में वृद्धि होनी चाहिए, लेकिन उच्च वेज कॉस्ट-पुश मुद्रास्फीति का एक तत्व है। इससे कीमतें बढ़ सकती हैं एक कंपनी के सामान और सेवाओं की।

अंतर्निहित मुद्रास्फीति

मुद्रास्फीति की अंतर्निहित (या मौलिक) दर अर्थव्यवस्था में मुद्रास्फीति के दबाव को मापती है जो मुख्य रूप से बाजार की ताकतों के कारण होती है, यानी कीमतों में बदलाव जो कि अर्थव्यवस्था में केवल आपूर्ति और मांग की स्थिति को दर्शाता है।

इस प्रकार की मुद्रास्फीति अंततः बढ़ेगी यदि आर्थिक गतिरोध, सप्लाई का झटका, मूल्य परिवर्तन या अन्य अप्रत्याशित गड़बड़ी नहीं हुई तो।

प्रमुख क्षण

कोर मुद्रास्फीति

मूल स्फीति की दर हर चीज में बढ़ती कीमतों को मापती है लेकिन भोजन और ऊर्जा को छोड़कर क्योंकि इनकी कीमतें मौसम के कारण बेहद परिवर्तनशील होती हैं। यह अपवर्जन अंतर्निहित मुद्रास्फीति ट्रेंड को मापने में मुख्य दर को हेडलाइन मुद्रास्फीति दर से अधिक सटीक बनाता है यही कारण है कि सेंट्रल बैंक मौद्रिक नीति निर्धारित करते समय मूल स्फीति दर का उपयोग करना पसंद करते हैं। वे इसे दीर्घकालिक मुद्रास्फीति ट्रेंड के मुख्य संकेतक के रूप में उपयोग करते हैं।  फिर भी, अगर ईंधन की कीमत लंबे समय से बढ़ रही है, तो यह कीमतों की अपेक्षाओं को बढ़ाकर मूल स्फीति को प्रभावित कर सकती है।

कोर CPI और कोर CPE में अंतर

कोर मुद्रास्फीति को कोर कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स (CPI) और कोर पर्सनल कंजम्पशन (PCE) दोनों द्वारा मापा जाता है। CPI घरेलू सामानों और सेवाओं के लिए कीमतों को मापता है। PCE उपभोक्ताओं द्वारा खरीदी गई वस्तुओं और सेवाओं की कीमतों का प्रतिनिधित्व करता है। तो, अगर वे “कोर” हैं तो इसका मतलब है फ़ूड और ऊर्जा को छोड़कर । कोर PCE और CPI दो भाइयों के जैसे हैं; वे दोनों यह निर्धारित करने में मदद करते हैं कि अर्थव्यवस्था में मुद्रास्फीति कितनी है।

मुद्रास्फीति की गणना

इसलिए, अब जब हम मुद्रास्फीति की सभी परिभाषाओं के इर्द-गिर्द उन्मुख हो सकते हैं, तो आइए देखें कि हम इसे कैसे माप सकते हैं और कैसे इसका विश्लेषण कर सकते हैं।

मुद्रास्फीति को कैसे मापें

मुद्रास्फीति को मुद्रास्फीति की दर से मापा जाता है, एक वर्ष से दूसरे वर्ष में कीमतों में प्रतिशत परिवर्तन। मुद्रास्फीति दर को कुछ अलग तरीकों से मापा जा सकता है:

  1. कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स (CPI) घरेलू सर्वेक्षणों के आधार पर वस्तुओं और सेवाओं की एक निश्चित बास्केट का उपयोग करके उपभोक्ताओं द्वारा खरीदी गई वस्तुओं और सेवाओं की कुल लागत को मापता है। तो, उस बास्केट की लागत में वृद्धि मुद्रास्फीति को इंगित करती है। एक बास्केट में विभिन्न समूह शामिल होते हैं जैसे कि भोजन और पेय पदार्थ, चिकित्सा देखभाल, परिवहन, आदि।
  2. दूसरी ओर, प्रोड्यूसर प्राइस इंडेक्स (PPI) उत्पादक के दृष्टिकोण से मुद्रास्फीति को मापता है। PPI घरेलू स्तर पर उत्पादित वस्तुओं और सेवाओं के लिए उत्पादकों को प्राप्त औसत कीमतों का एक उपाय है। इसकी गणना विक्रेताओं द्वारा एक विशिष्ट आधार वर्ष में वस्तुओं की प्रतिनिधि बास्केट के लिए प्राप्त होने वाली कीमतों को उनकी कीमतों से विभाजित करके की जाती है, फिर प्राप्त परिणाम को 100 से गुणा किया जाता है।
  3. तीसरा सामान्य सूचकांक पर्सनल कंसम्पशन (PCE) है। PCE उत्पादकों के GDP के आंकड़ों के आधार पर घरेलू सामानों और सेवाओं के लिए कीमतों में बदलाव को मापता है। यह CPI से कम विशिष्ट है क्योंकि यह CPI में प्रयुक्त मूल्य अनुमानों को आधार बनाता है, लेकिन इसमें अन्य स्रोतों के अनुमान भी शामिल हैं। अन्य दोनों सूचकांकों की तरह, एक वर्ष से दूसरे वर्ष तक सूचकांक में वृद्धि मुद्रास्फीति को इंगित करती है।

ट्रेडरों को मुद्रास्फीति के बारे में क्यों पता होना चाहिए

CPI का रिलीज (जिसे आप इकोनॉमिक कैलेंडर में देख सकते हैं) ट्रेडर्स के बीच अत्यधिक लोकप्रिय है क्योंकि मुद्रास्फीति, सेंट्रल बैंकों और मुद्रा के बीच सीधा संबंध है। अधिकांश विकसित देश मुद्रास्फीति दर को 2% पर रखने की कोशिश करते हैं।

जब मुद्रास्फीति अधिक होती है, तो सेंट्रल बैंक ब्याज दर को बढ़ाता है। नतीजतन, मुद्रा की मांग बढ़ती है, क्योंकि उच्च ब्याज दर विदेशी निवेशकों को आकर्षित करती है। इसलिए, विनिमय दर बढ़ती है। और इसके विपरीत: जब मुद्रास्फीति बहुत कम होती है, तो सेंट्रल बैंक ब्याज दर में कमी कर सकता है, ऐसे में मुद्रा की मांग सबसे अधिक हो जाएगी, इसलिए विनिमय दर गिर जाएगी।

यह सभी मुद्राओं को प्रभावित करता है, लेकिन विशेष रूप से USD को, क्योंकि इस समय, संयुक्त राज्य अमेरिका 7.5% मुद्रास्फीति से जूझ रहा है।

आइए उदाहरण देखें:

10 नवंबर, 2021 को, US ब्यूरो ऑफ़ लेबर स्टैटिस्टिक्स रिलीज़ 2021 में 0.9% की उच्चतम CPI दरों में से एक थी। प्रकाशन के बाद, USD अन्य मुद्राओं के मुकाबले मजबूत हुआ, उदाहरण के लिए, USD/CAD का पेयर 2060 अंक ऊपर चला गया:

USD/CAD का पेयर 2060 अंक ऊपर चला गया

जब मुद्रास्फीति गिर रही है, तो ट्रेडर्स शर्त लगाएंगे कि फेडरल रिजर्व विचार करेगा, स्टॉक और बॉन्ड की कीमतों को उठाने में मदद करने के लिए। इसके विपरीत, यदि मुद्रास्फीति बढ़ रही है, तो ट्रेडर्स अक्सर यह मानेंगे कि कमोडिटी जैसे हार्ड असेट के मूल्य में वृद्धि होगी क्योंकि फेड कम अनुकूल दिखता है।

ट्रेडर नियमित रूप से मॉनिटर करते हैं कि रिलीज किया गया CPI अपेक्षा से अधिक मजबूत या कमजोर है। जैसा कि सस्पेंस का क्षण है, यह ट्रेड करने का एक सही अवसर है, क्योंकि किसी भी मामले में, रिलीज का परिणाम परिवर्तनशीलता को उत्तेजित है जो ट्रेडिंग की रणनीतियों के लिए कई अवसर प्रदान करता है।

संक्षेप में, हर प्रकार की मुद्रास्फीति बर्बाद करने वाली नहीं होती है। इसके अलावा, यह CPI, PPI, और CPE के रिलीज पर बाजार में बदलाव होने पर ट्रेड करने का एक शानदार अवसर है।

समान

बार बार पूछे जाने वाले प्रश्न

  • FBS के साथ कमाए हुए धन को कैसे निकालें?

    ये प्रक्रिया बहुत ही सरल है। वेबसाइट या FBS पर्सनल एरिया के वित्त अनुभाग में Withdrawal पेज पर जाएं  और रकम निकासी की प्रक्रिया को एक्सेस करें। आप कमाया हुआ धन उसी भुगतान प्रणाली के माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं जिसे आपने जमा करने के लिए उपयोग किया था। यदि आपने विभिन्न तरीकों से अकाउंट को वित्त पोषित किया है, तो जमा रकम के अनुसार अनुपात में समान विधियों के माध्यम से अपना लाभ वापस लें।

  • FBS अकाउंट कैसे खोलें?

    हमारी वेबसाइट पर 'अकाउंट खोलें’ बटन पर क्लिक करें और पर्सनल एरिया पर जाएं। इससे पहले कि आप ट्रेडिंग शुरू कर सकें, एक प्रोफाइल सत्यापन पास करें। अपने ईमेल और फोन नंबर की पुष्टि करें और अपनी आईडी सत्यापित करें। यह प्रक्रिया आपके धन और पहचान की सुरक्षा की गारंटी देती है। एक बार जब आप सभी जांच कर लेते हैं, तो पसंदीदा ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म पर जाएं, और ट्रेडिंग शुरू करें। 

  • ट्रेडिंग कैसे शुरू करें?

    यदि आप 18 वर्ष से ऊपर के हैं, तो आप FBS में शामिल हो कर अपनी FX यात्रा शुरू कर सकते हैं। ट्रेड करने के लिए, आपके पास एक ब्रोकरेज अकाउंट और वित्तीय बाज़ारों में एसेट्स कैसे व्यवहार करते है, इसकी पर्याप्त जानकारी होने की आवश्यकता है। हमारी नि: शुल्क शैक्षिक सामग्री और FBS खाता बनाने के साथ मूल बातें का अध्ययन करना शुरू करें। आप डेमो अकाउंट से आभासी पैसे के साथ परिस्थिति का परीक्षण करना चाह सकते हैं। एक बार जब आप तैयार हो जाएं, तो सफल होने के लिए वास्तविक बाज़ार में प्रवेश करें और ट्रेड करें।  

  • लेवल अप बोनस को कैसे सक्रिय करें?

    FBS पर्सनल एरिया के वेब या मोबाइल संस्कारण में जाकर लेवल अप बोनस खाता खोलें और अपने खाते में मुफ्त 140$ पाएँ।

अपने स्थानीय भुगतान प्रणालियों के साथ जमा करें

टीम भावना अनुभव करें

डेटा संग्रह नोटिस

FBS इस वेबसाइट को चलाने के लिए आपके डेटा का रिकॉर्ड रखता है। "स्वीकार करें" बटन दबाकर, आप हमारीगोपनीयता नीति से सहमत होते हैं।

कॉलबैक

शीघ्र ही एक प्रबंधक आपको कॉल करेगा।

नंबर बदलें

आपका अनुरोध स्वीकार किया गया है|

शीघ्र ही एक प्रबंधक आपको कॉल करेगा।

इस फ़ोन नम्बर के लिए कॉलबैक का अगला अनुरोध
उपलब्ध होगा में

यदि आपके पास कोई ज़रूरी मुद्दा है तो कृपया हमसे संपर्क करें
लाइव चैट के माध्यम से

आंतरिक त्रुटि। कृपया बाद में पुन: प्रयास करें

अपना समय बर्बाद ना करें - इस बात का ध्यान रखें कि NFP अमेरिकी डॉलर और लाभ को कैसे प्रभावित करता है!

शुरुआत फॉरेक्स पुस्तक

शुरुआती फॉरेक्स पुस्तक व्यापार की दुनिया में आपका मार्गदर्शन करेगी।

शुरुआत फॉरेक्स पुस्तक

ट्रेडिंग शुरू करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण चीजें
अपना ई-मेल दर्ज करें, और हम आपको एक निशुल्क शुरुआती फॉरेक्स पुस्तक भेजेंगे

धन्यवाद!

हमने आपके ई-मेल पर एक विशेष लिंक ईमेल किया है।
अपने पते की पुष्टि के लिए लिंक पर क्लिक करें और शुरुआत के लिए शुरुआती फॉरेक्स बुक प्राप्त करें।

आप अपने ब्राउज़र के पुराने संस्करण का उपयोग कर रहे हैं।

इसे नवीनतम संस्करण में अपडेट करें या सुरक्षित, अधिक आरामदायक और उत्पादक व्यापारिक अनुभव के लिए कोई और संस्करण प्रयास करें।

Safari Chrome Firefox Opera